Blog Archive

Bookmark Us!


कौम के खादिम की है,
जागीर वन्दे मातरम्,
मुल्क के है वास्ते
अकसीर वन्दे मातरम्.

जालिमों को है उधर,
बन्दूक अपनी पे गुरूर,
है इधर हम बेकसों का,
तीर वन्दे मातरम्.

कत्ल कर हमको न
कातिल, तू हमारे खून से,
तेग पर हो जायेगा,
तहरीर वन्दे मातरम्.

फ़िक्र क्या जल्लाद ने गर,
कत्ल कर बांधी कमर,
रोक देगा जोर से,
शमशीर वन्दे मातरम्

जुल्म से गर कर दिया,
खामोश मुझको देखना,
बोल उठ्ठेगी मेरी
तस्वीर, वन्दे मातरम्.

सरजमीं इंग्लैंड की, हिल
जायेगी दो रोज में,
गर दिखाएगी कभी,
तासीर वन्दे मातरम्.

संतरी भी मुज्तरिब है,
जब कि हर झंकार में,
बोलती है जेल में,
जंजीर वन्दे मातरम्.
IF YOU LIKED THE POSTS, CLICK HERE


Top Blogs
-Vishwnath sharma

You Would Also Like To Read:

Reactions: 

2 Response to "बोल उठ्ठेगी मेरी तस्वीर, वन्दे मातरम्. .."


  1. wahreindia Said,

    हमारे आदरणीय जेर्नलिस्ट भाई के ब्लॉग पर वंदे मातरम सुशोभित होता देखकर आश्चर्या होता है शायद आपको पता नही इससे आप लोगो के सदेव प्रिय मुस्लिम भाई लोग नाराज़ हो जाएँगे और आप ही के चहेते मुलायम , लालू , अमर, उमर सोनिया, अर्जुन आदि खफा हो जाएँगे

     

चिट्ठी आई है...

व्‍यक्तिगत शिकायतों और सुझावों का स्वागत है
निर्माण संवाद के लेख E-mail द्वारा प्राप्‍त करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सुधी पाठकों की टिप्पणियां



पाश ने कहा है कि -'इस दौर की सबसे बड़ी त्रासदी होगी, सपनों का मर जाना। यह पीढ़ी सपने देखना छोड़ रही है। एक याचक की छवि बनती दिखती है। स्‍वमेव-मृगेन्‍द्रता का भाव खत्‍म हो चुका है।'
****************************************** गूगल सर्च सुविधा उपलब्ध यहाँ उपलब्ध है: ****************************************** हिन्‍दी लिखना चाहते हैं, यहॉं आप हिन्‍दी में लिख सकते हैं..

*************************************** www.blogvani.com counter

Followers