Blog Archive

Bookmark Us!


खामोशी का अर्थ नहीं,
हम उनको भूल गए..
उन्होंने कैसे सोच लिया,
कि बागों से फूल गए..

कुछ रिश्ते ऐसे होते हैं,
जो टूट नहीं सकते...
कुछ दामन ऐसे होते हैं,
जो छूट नहीं सकते..

कुछ लम्हे ऐसे होते हैं,
जो जीवन बन जाते हैं...
कुछ पल ऐसे हैं, जिनको
ये पल लूट नहीं सकते..

कुछ नजरें ऐसी होती हैं,
जो नजरों में उतर जाती हैं..
कभी-कभी कुछ बातें
दिल में, घर कर जाती हैं..

कभी किसी का आना भी,
तनहा कर जाता है..
कभी किसी की यादें दिल
में खुशियाँ भर जाती हैं...

ब्याज तो हर इक रिश्ते
का हम चुकता कर आये...
लेकिन शायद लगता है
हम बिन मूल गए..

खामोशी का अर्थ नहीं,
हम उनको भूल गए..

IF YOU LIKED THE POSTS, CLICK HERE


Top Blogs
-Amit Tiwari 'Sangharsh', Swaraj T.V.

You Would Also Like To Read:

Reactions: 

6 Response to "खामोशी का अर्थ नहीं हम उनको भूल गए."

  1. Nidhi Sharma Said,

    Sunder bhaav..........
    achchhi rachna..

     

  2. sahi hai ham nahi bhul sakate hai ......ek sundar bhawabhiwyakti liye huye kawita

     

  3. खूबसूरत रचना

     

  4. No one can forget lover though the don't talk about him/her. Your poem is near to loves heart.

     

  5. Nidhi Said,

    This comment has been removed by the author.

     

  6. सच है...भूलना तो संभव ही नहीं होता.....
    बस बोलना छूट जाता है......बिना बोले ही...अथाह बातें होती रहती हैं अपने आपसे...
    अच्छी कविता..

     

चिट्ठी आई है...

व्‍यक्तिगत शिकायतों और सुझावों का स्वागत है
निर्माण संवाद के लेख E-mail द्वारा प्राप्‍त करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सुधी पाठकों की टिप्पणियां



पाश ने कहा है कि -'इस दौर की सबसे बड़ी त्रासदी होगी, सपनों का मर जाना। यह पीढ़ी सपने देखना छोड़ रही है। एक याचक की छवि बनती दिखती है। स्‍वमेव-मृगेन्‍द्रता का भाव खत्‍म हो चुका है।'
****************************************** गूगल सर्च सुविधा उपलब्ध यहाँ उपलब्ध है: ****************************************** हिन्‍दी लिखना चाहते हैं, यहॉं आप हिन्‍दी में लिख सकते हैं..

*************************************** www.blogvani.com counter

Followers