Blog Archive

Bookmark Us!


बहुत अच्छा लगता है, जब टीवी चलाते ही सामने एक सुन्दर सी बाला स्वागत करती हुई दिखाई दे जाती है. मन कोल्ड ड्रिंक पीने को मचल उठता है, जब एक विश्व सुंदरी अपने सुन्दर होठों से लगाये हुए कहती है, 'पियो सर उठा के'. और समाचार और भी आकर्षक लगने लगते हैं, जब उन्हें कोई दमकता चेहरा, सुरीली आवाज में सुना रहा होता है.

साथ ही साथ मैं इस सुखद भ्रम में भी डूब जाता हूँ, कि स्त्री सच में सशक्त हो रही है. आज कोई कोना नहीं बचा, जहाँ स्त्री ने अपनी उपस्थिति ना दर्ज की हो.

ऐसे ही एक सुखद भ्रम में खोया, टीवी पर बोल रही बाला को सुन ही रहा था, कि अचानक ठिठक सा गया. एक अर्धनग्न सी युवती, समंदर किनारे किसी बंद, पानी की बोतल का प्रचार कर रही थी. मैं उसकी अवस्था को देखकर हतप्रभ था. समझ नहीं पा रहा था, कि यह कौन से 'पानी' का प्रचार है..!!? क्या यह सच में उसी 'पानी' का प्रचार है, जो उस बोतल में बंद है, या फिर यह उस 'पानी' का प्रचार है, जो इस 'पानी' की आड़ में 'पानी-पानी' कर दिया गया.

यह कैसी सशक्तता है? क्या स्त्री इसी सशक्तता के लिए बेचैन थी? क्या यही प्राप्ति उसका अंतिम लक्ष्य है?

एक कटु सत्य यही है कि स्त्री आज भी सशक्त नहीं है, बल्कि वह पुरुष के हाथों सशक्तता के भ्रम में पड़कर स्वयं को छल रही है.
'हे विश्वसुन्दरी, तुमने क्या खोया, क्या पाया है...
तन को बाजारों में बेचा, फिर तुमने क्या कमाया है....'

स्त्री देह के छोटे होते वस्त्र और उसकी सुन्दरता को मिलते बड़े पुरस्कार......यह सब एक रणनीति रही है, इस पुरुष समाज की...स्त्री को छलने के लिए....दुर्भाग्य यही है, कि स्त्री स्वयं को उन्ही बड़े पुरस्कारों के आधार पर जांचने लगी. स्त्री को अपनी सुन्दरता का प्रमाण उन पुरस्कारों में दिखाई देने लगा...

जिस स्त्री को अपने आभूषणों में सुन्दरता दिखती थी, उसे अब अपनी अर्धनग्न देह ज्यादा सुन्दर लगने लगी. और रही बात पुरुष समाज की, तो वह तो सदा से यही चाहता रहा है. जो यह समाज तमाम अत्याचारों और बल के बाद भी नहीं कर पाया था, कुछ बुद्धिजीवियों ने इतनी सरलता से उसे कर दिखाया, कि स्त्री स्वयं ही अपने वस्त्र उतार बैठी.

कन्हैया सोच रहे हैं, कि शायद कोई द्रौपदी अपने चीर की रक्षा के लिए आवाज देगी... लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है, क्योंकि यहाँ कोई दुशासन चीर हरण कर ही नहीं रहा है, यहाँ तो अब स्वयं द्रौपदी ही अपने चीर को त्याग रही है, तब फिर भला कन्हैया भी क्या करें?

सरकार की दृष्टि में सशक्तता का प्रमाणपत्र अब बार या पब में जाकर ही मिल सकता है. यह सब कुछ मात्र राजनीति का हिस्सा नहीं है. यह एक बहुत बड़ी रणनीति है, समाज के अन्दर से मनुष्यता और संस्कृति को मारने की.

पिछले दशक में अचानक ही हिन्दुस्तानी सुंदरियों को विश्व-सुंदरी और ब्रह्माण्ड-सुंदरी का ताज मिलने के पीछे उनकी सुन्दरता को पुरस्कृत करने का ध्येय कदापि नहीं था. इसके पीछे खेल था, यहाँ से संस्कृति को पुरस्कारों के जरिये ख़त्म कर देने का. और वह इसमें सफल भी रहे. अब हर रोज कहीं न कहीं गली-सुंदरी, मोहल्ला-सुंदरी, और पार्टी-सुंदरी के ताज मिलते रहते हैं.

स्त्री की सुन्दरता के दृष्टिकोण को बदल दिया गया. अब 'न्यूनतम वस्त्र, अधिकतम आधुनिक सुन्दरता' के द्योतक बना दिए गए. चलचित्रों (फिल्मों) का कैमरा अब अभिनेत्री की 'कजरारी आँखों' से उतर कर, उसकी 'बलखाती कमर' पर टिक चुका है. अब अभिनेता-अभिनेत्री की मुलाकात किसी बगीचे में, पेडों की ओट में नहीं, बल्कि समंदर किनारे किसी 'बीच-पार्टी' में होती है. जहाँ स्विमसूट में अभिनेत्री का एक दृश्य आवश्यक हो गया है.

दुर्भाग्य से स्त्री इसे ही अपनी स्वतंत्रता और सशक्तता का पैमाना मानने लगी है.

समय रहते स्त्री को इस अवधारणा से बाहर निकल कर अपनी सर्वोच्चता और पूर्णता की प्राप्ति के लिए प्रयास शुरू करना होगा. जिस दिन हर स्त्री अपनी पूर्णता को स्वीकार कर अपूर्ण पुरुष की समानता के भ्रमजाल से बाहर आ जायेगी, वह पूर्ण स्वतंत्र और सशक्त हो उठेगी. तब कोई दुसाशन ना चीर हरण का प्रयास करेगा, ना ही कृष्ण को चीर बचाने की चिंता होगी......

आखिर कृष्ण के लिए और भी तो काम हैं....

-Amit Tiwari 'Sangharsh', Swaraj T.V.

Reactions: 

5 Response to "'हे विश्वसुन्दरी, तुमने क्या खोया, क्या पाया है..."

  1. वाह साहेब वाह !
    कृष्ण ?
    कृष्ण आयेंगे ?
    इनके लिए ?
    हा हा हा हा हा हा हा हा हा

    कृष्ण उनकी लाज बचाते हैं
    जो उनसे अपनी बचाने की गुहार लगाते हैं
    उनकी नहीं ..जो
    मार्केट में खड़े हो कर
    अपने वस्त्र ख़ुद उतार कर
    लाज लेलो ! लाज लेलो ! की पुकार लगाते हैं
    ______बढ़िया पोस्ट..............हा हा हा

     

  2. पाया कहां जी,सिर्फ खोया ही खोया है!!!!!
    लाज खोई....संस्कार खोए....स्त्रीत्व खोया..ओर पता नहीं क्या क्या खोया!!!

     

  3. सही कहा आपने,

    इसी विषय से सम्बंधित मैंने एक लेख लिखा है, पढने पर आपका लेख और भी सार्थक हो जायेगा...

    आधुनिक वैश्विय सभ्यता और नारी की गरीमा (http://swachchhsandesh.blogspot.com/2009/08/modern-global-culture-and-women.html)

    धन्यवाद!

     


  4. IEDig Said,

    Post your Site at http://iedig.comand Share your Post, Make Friends, Share your article with your friends and Boost your Hits.

    http://iedig.com

     

चिट्ठी आई है...

व्‍यक्तिगत शिकायतों और सुझावों का स्वागत है
निर्माण संवाद के लेख E-mail द्वारा प्राप्‍त करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सुधी पाठकों की टिप्पणियां



पाश ने कहा है कि -'इस दौर की सबसे बड़ी त्रासदी होगी, सपनों का मर जाना। यह पीढ़ी सपने देखना छोड़ रही है। एक याचक की छवि बनती दिखती है। स्‍वमेव-मृगेन्‍द्रता का भाव खत्‍म हो चुका है।'
****************************************** गूगल सर्च सुविधा उपलब्ध यहाँ उपलब्ध है: ****************************************** हिन्‍दी लिखना चाहते हैं, यहॉं आप हिन्‍दी में लिख सकते हैं..

*************************************** www.blogvani.com counter

Followers