Blog Archive

Bookmark Us!


हम आजाद है और ये आजादी की 62वीं वर्षगांठ है। पर सचमुच क्या हम आजाद है? मन से या तन से, शायद तन से ही होगा, क्योंकि अंग्रेजो की गुलामी की जंजीरे जो तोड़ी है हमने। लेकिन मन आज भी किसी न किसी बात पर व्याकुल रहता है और खुद को सहज महसूस नहीं होने देता। वह सोचता है, रात-रात भर जागता रहता है। जब देखता है 62 वर्षों में बदले इंसानी स्वरूप् को, फैली अराजकता को, अपनी जीविका के लिए कुछ भी कर गुजरने वालें लोगों को। यहां तक कि अमीर-गरीब में बढ़ती खाई और राजनीतिक ओछेपन की उस परिदृश्य को, जिसने समान रक्त और मांस से बने इस ढ़ांचे को धर्म, जाति, रंग, लिंग और सम्प्रदाय में बांट दिया है। चिंता होती है आने वाले कल की, जब दो वक्त की रोटी के लिए लोग एक-दूसरे का गला कांटने से भी परहेज नहीं करेंगे। मंहगाई की उस चरम सीमा की, जिसने अभी तो केवल दाल को थाल से छीना है, पर शायद कल दो-रोटी भी न छीन ले। इतना ही नहीं, चिंता होती है हमे स्वच्छ वायु और जल की, जो हमारे पेड़ देते रहे है। सांस लेने के लिए, प्यास मिटाने के लिए, मगर अंधाधुंध पेड़ों की कटाई कर कंक्रीट की बनती ऊंची-ऊंची इमारतों ने तो हमारे सांस लेने में भी मुश्किले खड़ी कर दी है। और हम सांस लेना भी चाहते है तो स्वाईन-फ्लू का डर हमे सांस लेने तक नहीं देता।
हां, आजादी मिली है उन राजनेताओं को, जो सांसद या मंत्री बनते ही सात पुश्तों के लिए भोजन-पानी का प्रबंध करने लगते है। उन भ्रष्टाचारी इंसानों को, जिनके जमीर को कागज के टुकड़े और खनकते सिक्के ने मार रखा है। उन व्यापारिक घरानों को, जिन्हे लाख, करोड़ या अरब से भी संतोष नहीं होता। बल्कि खरबों की चाहत लिए मजदूरों का शोषण और नेताओं से मिलकर जनता को लूटने के लिए जमाखोरी करने से भी बाज नहीं आते। उन फिल्मी अभिनेताओं और अभिनेत्रियों को, जो पैसों के लिए अपने अंग की नुमाईश कर, भारतीय युवा पीढ़ी का मार्गदर्शक बनकर, भारतीय संस्कृति को नेस्तनाबूत करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है।
सबसे ज्यादा दुख तो तब होता है, जब अपने ही देश का एक छोटा सा हिस्सा, जिसे हम छोटा भाई समझकर उसके तमाम गलतियों को हर बार भुलाना चाहते है, बावजूद आतंकवाद के आतंक का छुरा, हमारे पीठ पर भोकने से वह छोटा भाई कभी नहीं चूकता। इन 62 वर्षों में आजादी के बाद इंसान की मानवीयता, आत्मीयता, रिश्ते-नाते, मदद के लिए बढ़ते हाथ जरूर आजाद होने लगे है। जिनके मन में थोड़ी बहुत इच्छा बची होती है और वे अन्याय के खिलाफ आवाज उठाते है, तो चंद मुट्ठी भर अमानवीय इंसान भीड़ में उसे गोली मारकर या चाकू घोंप कर उसके आवाज को बंद कर देता है और भीड़ तमाशबीन की तरह देखता रहता है। उसे यह भी एहसास नहीं होता कि आने वाले कल में वह भी इसका हिस्सा हो सकता है।
सबसे बड़ी चिंता तो मुझे इस बढ़ती गुणात्मक जनसंख्या से हो रही है, जो कल तक शक्ति का स्वरूप थी, पर आज संख्या बनकर रह गई है। जो खेतों की जमीने उजाड़कर शोपिंग मॉल, बंगले, जहर उगलने वाली फैक्ट्रियां, चौड़ी सड़के आदि बनाने में लगी हुई है और साथ ही जंगलो को काट कर खेत बनाने में लगे हुए है। और जब सारे जंगल समाप्त हो जायेंगे तो सारे जीव-जंतु का अंत होना सुनिश्चित ही है। चलो ये तो बदजुबान जानवर है अपना विरोध दर्ज कराने के लिए जंतर-मंतर भी नहीं आ पायेंगे। और जब इनकी सुनने वाला कोई नहीं होगा तो बेचारे वे बेमौत मारे जायेंगे। फिर हमारे पर्यावरण चक्र का क्या होगा? भला मुट्ठी भर लोगों के अलावा इसकी चिंता और कौन करता होगा? क्योंकि हर इंसान तो बस यहीं चिंता करता रहता है, मैं हूं, एक अच्छी नौकरी हो, उसके बाद एक सुन्दर सी बीबी, घर और गाड़ी हो.
समस्यायों से जूझता भारत बर्बादी की तरफ बढ़ रहा है। या फिर नवीन युग के आने का यह संकेत मात्र है। जिस तरह सतयुग, त्रेतायुग और द्वापर युग का समाप्त होना निश्चित है जबकि उन युगों में धरती पर पाप कम करने के लिए भगवान राम और कृष्ण अवतरीत हुए थे, पर शायद इस कल युग में संत-महात्मा तक का चरित्र पुरी तरह कलयुगी हो चुका है। जो माया और मोक्ष से मुक्ति का मार्ग दिखाने की बात करते है, पर खुद माया की जंजाल में फंसे नजर आते है।
फिर अंत में तमाम चिंताओं को भूलकर आसमान में उड़ते उस पतंग को देखता हूं, जिसे न तो उमस भरी गर्मी का अहसास होता है, न ही दो वक्त की रोटी, सांस लेने के लिए स्वच्छ वायु और प्यास मिटाने के लिए स्वच्छ जल की चिंता होती है। उसे स्वाईन फ्‌लू का भी डर नहीं होता। हमें तो चिंता और भी कई सारी है, जैसे इन आजादी के 62 वर्षों में असली शहीदों को लोगों द्वारा भूल जाने की। उन्हें याद है तो बस उस नेहरू खानदान की जो गांधी का तमगा लगाकर तमाम हॉस्पिटलो, पार्कों, सामाजिक संस्थानों, चौक-चौराहों आदि स्थानों पर अपना परचम लहराकर तमाम अन्य शहीदों जैसे, भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस, जयप्रकाश, लोहिया, खुदीराम बोस, विवेकानंद, नरेन्द्र देव, आदि को लोगों के जेहन से मिटाने में लगे हुए है।
हमे तो चिंता और भी कई सारी है पर क्या लाभ कोई और भी तो इसकी चिंता करे मुझ अकेले की चिंता करने से क्या होगा? जनसंख्या नियंत्रण के सवाल पर या जंगल और खेत बचाने के नाम पर, सब कागजी खाना पूर्ति करने लगे है। हमने इस चिंता से सबको अवगत कराया है ज्यादा से ज्यादा कुछ लोग इस चिंता को समझकर अपनी चंद अलफाज लिखकर चिंता मुक्त हो जाएंगे। फिर जैसा चल रहा है वैसा ही चलता रहेगा। फिर अगले दिन दो वक्त की रोटी जुटाने की चिंता में ये तमाम चिंताए धुल-धुर्षित होती नजर आयेगी।
अब भी कहिये, क्या हम सब आजाद है?
IF YOU LIKED THE POSTS, CLICK HERE


Top Blogs
-Narendra Nirmal

You Woul Also Like To Read:

Reactions: 

2 Response to "अब भी कहिये, क्या हम सब आजाद है?"

  1. शानदार रचना । स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई। आपने अपने इस रचना के माध्यम से सच्चाई को उकेर कर रख दिया ।

     

  2. आप ने अर्थ के अनर्थ जाल की परिणति को अच्छा समेटा।
    विवेकानन्द ने 'योनि कीट' होते युवकों की बात की थी। हम तो अब न जाने कौन से कीट हो रहे हैं।
    गरम गरम पर ठंडा छिड़काव होना ही चाहिए। जनचेतना के हित में है।
    आभार,

     

चिट्ठी आई है...

व्‍यक्तिगत शिकायतों और सुझावों का स्वागत है
निर्माण संवाद के लेख E-mail द्वारा प्राप्‍त करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सुधी पाठकों की टिप्पणियां



पाश ने कहा है कि -'इस दौर की सबसे बड़ी त्रासदी होगी, सपनों का मर जाना। यह पीढ़ी सपने देखना छोड़ रही है। एक याचक की छवि बनती दिखती है। स्‍वमेव-मृगेन्‍द्रता का भाव खत्‍म हो चुका है।'
****************************************** गूगल सर्च सुविधा उपलब्ध यहाँ उपलब्ध है: ****************************************** हिन्‍दी लिखना चाहते हैं, यहॉं आप हिन्‍दी में लिख सकते हैं..

*************************************** www.blogvani.com counter

Followers