Blog Archive

Bookmark Us!

पाती प्रेम की....

Posted by AMIT TIWARI 'Sangharsh' On 7/25/2009 07:22:00 PM



जाने क्यूँ ये कलम आजकल प्रेम-गीत से डरती है,
प्रिय के मोल-तोल में होते हार-जीत से डरती है.
प्रीत भरी दो बातें अब क्यों लिखती नहीं है स्याही,
जाने अब किस भय में डूबा प्रेम-पंथ का राही.
माना कि संसार-समर में और बहुत से किस्से हैं;
बोटी-बोटी कटी लाश में सबके अपने हिस्से हैं.
किस कृपाण ने काटा होगा अंग कौन सा तन का,
जाने कौन हवा ने फूंका होगा चिराग आँगन का.
इस जैसे भ्रम प्रश्न अनेक होते हैं रोज समर में;
जाने कितने स्वप्न-महल, हर रोज जले हर घर में!
लेकिन क्यों मृत्यु-भय से जीवन-रस मर जाए,
प्रेम-सुधा झर जाए, द्वेष-गरल भर जाए.
लिखो प्रेम की गाथा हर पल, गीत प्रीत के रोज लिखो;
प्रियतम की दो बातें लिखो, उसके नयन सरोज लिखो.
निश्चय ही यह भ्रम माना, दो पल सुख की पाती तो है!
प्रियतम की मीठी बातों से, मुस्कान कहीं आती तो है!

-Amit Tiwari 'Sangharsh, Swaraj T.V.

Reactions: 

0 Response to "पाती प्रेम की...."

चिट्ठी आई है...

व्‍यक्तिगत शिकायतों और सुझावों का स्वागत है
निर्माण संवाद के लेख E-mail द्वारा प्राप्‍त करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सुधी पाठकों की टिप्पणियां



पाश ने कहा है कि -'इस दौर की सबसे बड़ी त्रासदी होगी, सपनों का मर जाना। यह पीढ़ी सपने देखना छोड़ रही है। एक याचक की छवि बनती दिखती है। स्‍वमेव-मृगेन्‍द्रता का भाव खत्‍म हो चुका है।'
****************************************** गूगल सर्च सुविधा उपलब्ध यहाँ उपलब्ध है: ****************************************** हिन्‍दी लिखना चाहते हैं, यहॉं आप हिन्‍दी में लिख सकते हैं..

*************************************** www.blogvani.com counter

Followers