Blog Archive

Bookmark Us!

अमिताभ पर बेवजह की बहस

Posted by AMIT TIWARI 'Sangharsh' On 4/04/2010 03:35:00 PM


अमिताभ को लेकर राजनीति लगातार तेज हो रही है। कभी अमिताभ को आँखों पर बिठा कर रखने वाली कांग्रेस को आज पूरा बच्चन परिवार फूटी आँख भी नहीं सुहा रहा है। कभी अमिताभ की विरोधी रही भाजपा आज उनके पक्ष में कशीदे पढ़ रही है। बेहया मीडिया इस बेवजह के मुद्दे को तूल देने पर तुला है। देश के सामने खड़े असंख्य सवालों की ओर किसी का ध्यान नहीं है। कांग्रेस अपनी निर्लज्जता के चरम पर है। यह वही कांग्रेस है जिसके राजीव गाँधी अमिताभ को अपने भाई की तरह लेकर चलते थे।
समय बीतने के साथ-साथ कांग्रेस से बच्चन परिवार का रिश्ता टूटता गया। लेकिन फिर भी जब तक सपा के साथ से कांग्रेस की सरकार चल रही थी, तब तक कांग्रेस को अमिताभ इतने बुरे नहीं लगे। लेकिन जैसे ही अमिताभ राजनीतिक दृष्टिकोण से निरर्थक हुए कि कांग्रेस को बच्चन परिवार का नाम भी काट खाने लगा। ......


दूध के धुले अमिताभ भी नहीं...
‘...सेठ, मैं आज भी फेंके हुए पैसे नहीं उठाता..’ जैसे ही परदे पर यह आवाज गूंजती है, पूरा हाल तालियों की गड़गड़ाहट से भर जाता था। वह इसी व्यवस्था की बद इन्तजामी से परेशान होकर उस मुकाम पर पहुँचने वाले किसी शख्स की कहानी होती थी। साठ-सत्तर के दशक में जब गाँधी, लोहिया, जेपी आदर्श हुआ करते थे। जब व्यवस्था के विरुद्ध एक आक्रोश था, उस वक्त में अमिताभ ने खुद को उस जमात की आवाज बनाया। वह जमात, जो सिर्फ सोच सकती थी, लेकिन जिसे कुछ कर सकने का अधिकार नहीं था। तब परदे पर अमिताभ उसे एक सुकून देते दिखाई पड़ते थे। अमिताभ की यही छवि उन्हें महानायक बना गई थी। ‘जंजीर’, ‘खुदा गवाह’ बना रहा उस वक्त का अमिताभ एक महानायक जैसा ही था। जब वह अमिताभ ‘गंगा की सौगंध’ खाता था, तो हर किसी के दिल में वह सौगंध उतर जाती थी। यही वजह थी कि उस ‘कुली’ के घायल हो जाने भर से पूरे देश में एक हाहाकार सा मच गया लगता था। ...................

- अमित तिवारी

Reactions: 
Category : | edit post

0 Response to "अमिताभ पर बेवजह की बहस"

चिट्ठी आई है...

व्‍यक्तिगत शिकायतों और सुझावों का स्वागत है
निर्माण संवाद के लेख E-mail द्वारा प्राप्‍त करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सुधी पाठकों की टिप्पणियां



पाश ने कहा है कि -'इस दौर की सबसे बड़ी त्रासदी होगी, सपनों का मर जाना। यह पीढ़ी सपने देखना छोड़ रही है। एक याचक की छवि बनती दिखती है। स्‍वमेव-मृगेन्‍द्रता का भाव खत्‍म हो चुका है।'
****************************************** गूगल सर्च सुविधा उपलब्ध यहाँ उपलब्ध है: ****************************************** हिन्‍दी लिखना चाहते हैं, यहॉं आप हिन्‍दी में लिख सकते हैं..

*************************************** www.blogvani.com counter

Followers